Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 14 अगस्त 2017

श्री कृष्ण, गीता और व्हाट्सअप

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज व्हाट्सअप पर एक संदेश प्राप्त हुआ ... 

ये जो कुल्फी खाते हुए
एक हथेली कुल्फी के नीचे लगाये रहते हो ना

 इसे ही गीता में श्रीकृष्ण ने "मोह" बताया है.
😂😂😜😜😜
___________
और कुल्फी खतम होने के बाद भी जो डण्डी चाटते ही रहते हैं

इसे ही गीता में श्रीकृष्ण ने "लोभ" कहा है
🙏😀🙏
_____________
और डण्डी फेंकने के बाद , सामने वाले की कुल्फी देखकर सोचना कि उसकी खत्म क्यों नहीं हुई,

इसे गीता मे "ईर्ष्या" कहा गया है,  ☺☺
_____________
और कुल्फी खतम होने से पहले डन्डी से नीचे गिर जाये और केवल डण्डी हाथ मे रह जाये तब तुम्हारे मन में जो आता है....                             😁  इसे ही गीता मे "क्रोध" कहा है 😳
____________
ये जो नींद पूरी होने के बाद भी 3 घंटे तक बिस्तर पर मगरमच्छ की तरह पड़े रहते हो ना !
गीता में इसे ही "आलस्य" कहा गया है। 😂😂
____________
ये रेस्टोरेंट में खाने के बाद जो कनस्तर भरके सौंफ और मिश्री का बुक्का मारते हो ना !!
गीता में इसे ही "टुच्चापन" कहा है ।।😂😝😜
____________
ये जो ताला लगाने के बाद उसे पकड़ कर खींचते हो ना !!

इसे ही गीता में 'भय' कहा गया है ।।😜😝😂
____________
ये जो तुम WhatsApp पर मैसेज़ भेजने के बाद
बार बार दो नीली धारियाँ चेक
करते हो ना !

इसे ही गीता में 'उतावलापन' कहा है...😂😂
___________
वो जो तुम गोलगप्पे वाले से कभी मिर्च वाला 🙄 कभी सूखा 😬 कभी दही वाला 😑 कभी मीठी चटनी 🙁

वाला माँगते वक़्त उसे "भैया" बोलती हो ना..

बस इसी को गीता में "शोषण" कहा है 😂😂
___________
फ्रूटी खत्म होने के बाद ये जो आप स्ट्रा से सुड़प-सुड़प करके आखिरी बून्द तक पीने की कोशिश करते हो न....

गीता में इसे ही "मृगतृष्णा" कहा गया है😜😜
___________
ये जो तुम लोग केले 🍌 खरीदते वक्त, अंगूर 🍇 क्या भाव दिये ? बोल के 5-7 अंगूर खा जाते हो ना......गीता में इसे ही "अक्षम्य अपराध" कहा गया है। 😂😂😜😜😜😜
____________
ये जो तुम.. भंडारे में बैठकर..

खाते हुए.. रायते वाले को आता देखकर..

जल्दी से.. रायता पी लेते हो....!!
..
गीता में.. इसे भी "छल" कहा गया है !!😂😂
_____________
और इस पोस्ट को पढ़कर जो हँसी आती है उसे "मोक्ष" कहते है |

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भला मैं किस तरह ज़िन्दा रहूँगा

इन चुप्पियों के समन्दरों में...

७५ वर्ष पहले हुआ था उषा मेहता के खुफिया कांग्रेस रेडियो का प्रसारण

ग़ज़ल (बोलेंगे जो भी हमसे बह ,हम ऐतवार कर लेगें )

कुकुभ छंद

घरों में मातम और जन्मोत्सव?

तू ही जाने तेरा राज

यह देश तुम्हारा नहीं

केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन

इन्तज़ार का सम्मोहन

सर्प कब तक आस्तीनों में छुपे पलते रहेंगे ...

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

8 टिप्पणियाँ:

Kavita Rawat ने कहा…

श्री कृष्ण, गीता और व्हाट्सअप की सामयिक परिदृश्य में रोचक प्रस्तुति सहित बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
सबको स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

Digamber Naswa ने कहा…

ज्ञान आज के संदर्भ में ... बहुत रोचक है
आभार आज मेरी रचना को जगह दी आपने ...

विकास नैनवाल ने कहा…

सुन्दर संकलन।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

नव-वर्ष में प्रवेश पर शुभकामनाएं

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Anita ने कहा…

देर से आने के लिए खेद है, पठनीय सूत्रों से सजा बुलेटिन..आभार !

meri dastaan ने कहा…

http://kahanipyaarki.blogspot.in/2017/08/blog-post.html

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार