Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 30 सितंबर 2017

विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनायें

नवरात्री मे अष्टमी का सर्वाधिक महत्व है| इसी दिन काली, महाकाली, भद्रकाली, दक्षिणकाली तथा बिजासन माता का पूजन किया जाता है| वास्तव मे इन्हे कुल की देवी माना जाता है|
ऐसा भी माना जाता है कि अष्टमी और नवमी के बदलाव वाले समय मे माँ दुर्गा अपनी शक्तियों को प्रगट करती है  जिसके लिए एक विशेष प्रकार की पूजा की जाती है| जिसे चामुंडा की सांध्य पूजा के नाम से जाना जाता है| 
“या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम: “||  मंत्र के साथ आइये हम भी गौरी की आराधना करें, उनका श्रृंगार करें ताकि हमारे जीवन में सौंदर्य रहे, सुख रहे, शक्ति का संचार होता रहे  ... 

एक बात स्मरण रहे, शक्ति हताशा से ही उभरती है 

Search Results

कविता "जीवन कलश": किंकर्तव्यविमूढ


शब्दों के
कोलाहल से
भरी हुई
मेरी चुप्पी ने
एक दिन ..
अपना सारा कुछ
ऊँगलियों को
बाँट दिया..
और..ऊँगलियों ने
धीरे-धीरे
सब कुछ
निकालकर
डायरी के पन्नों में
डाल दिया..
अब बाँटने जैसा
कुछ भी नहीं है
मेरे पास
तुम्हें दे सकूँ
ऐसा कुछ भी
नहीं है मेरे पास ..

ऋता शेखर 'मधु'
लघुकथा
कन्या भोजन के लिए नौ कन्याएं आ चुकी थीं। नवमी के दिन प्रेमा ने कन्या पूजन का इंतेजाम किया था। जिस प्राथमिक विद्यालय में वह पढ़ाती थी वहीं की बच्चियाँ थीं।
प्रेमा ने प्रेम से सबके पांव धोये। चुनरी ओढाई। भोजन दिया। दक्षिणा में उसने सभी को पैसे के साथ एक कलम और लोहे का बना एक एक छोटा सा त्रिशूल दिया।
"माम्, सभी सिर्फ पैसे देते हैं" जो सबसे बड़ी थी उसने कहा।
"जानती हूँ बेटा। चुनरी से मैंने तुम्हारा सम्मान किया। कलम से तुम विद्या ग्रहण करोगी। "
"और ये त्रिशूल "
"और इस त्रिशूल से उनको सबक सिखाना जो तुम्हारे साथ बदतमीजी करते हैं। जानती हो, महिषासुर राक्षस का वध माता सरस्वती ने ही किया था।"
"हाँ, अवश्य मारूँगी उन्हें..." एक दृढ़ शक्ति झाँक रही थी उसकी आँखों में 

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी ।
दुर्गा शिवा क्षमा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते
जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतापहारिणि ।
जय सर्वगते देवि कालरात्रि नमोऽस्तु ते
महिषासुरनिर्नाशि भक्तानां सुखदे नमः ।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि



विजयदशमी की आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें।
प्रभु श्रीराम और माँ दुर्गा से राष्ट्र कल्याण की कामना है।

3 टिप्पणियाँ:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

संक्षिप्त किन्तु जानकारी देती हुई बुलेटइन और बेहतर लिंक्स!! सभी को शुभ बिजया और दशहरे की शुभकामनाएँ!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

दशहरे की शुभकामनाएं। बहुत सुन्दर बुलेटिन।

Praveen Pandey ने कहा…

उत्कृष्ट सूत्र...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार