Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 13 अक्तूबर 2017

याद दिलाने का मेरा फ़र्ज़ बनता है ...

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आप सब से अनुरोध है कि घर में 500/2000 के जितने भी नोट हों तो धीरे-धीरे निकालते रहिएगा ...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
वो क्या है न कि 8 नवंबर नज़दीक आ रहा है ... और याद दिलाने का मेरा फ़र्ज़ बनता है।


सादर आपका
शिवम् मिश्रा
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

तुम मेरा न्यू यॉर्क हो

अयोध्याजी में राजा दशरथजी के यहाँ पुत्र रूप में प्रगट होने से पहले रामजी और कहाँ प्रगट हुए थे

जिंदगी को खिलखिलाना आ गया

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

पुदीने के परांठे

मॉस वॉल और ''स्मॉग फ्री टॉवर''की दरकार

लेह से नुब्रा , विश्व के सबसे ऊंचे खरदुंगला पास से होकर , एक रोमांचक सफ़र ---

पहले जुड़िये फिर बात कहिये

प्यार की अजीब होती है दास्ताँ

कार्टून:- हाय कार चुर गई रे

लफ्ज़ जो ज़िंदा तस्वीर हैं

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ... 

जय हिन्द !!! 

2 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

जिसे याद रखना है
वो फिर याद दिलायेगा
अपने ठिकाने लगायेगा
फिर पूछने चला आयेगा :)

बढ़िया प्रस्तुति शिवम जी।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार